Health

स्वास्थ्य सेवा या हेल्थकेयर का अर्थ बीमारी की रोकथाम और उपचार करना है। स्वास्थ्य सेवा चिकित्सादन्त चिकित्सानर्सिंग और स्वास्थ्य से सम्बंधित पेशेवरों द्वारा प्रदान की जाती है। स्वास्थय सेवा तक पहुँच देशों, समूहों और व्यक्तियों के अनुसार बदलती रहती है। इसपर उस जगह की स्वास्थय नीतियों, सामाजिक और आर्थिक परिस्थितियों का गहरा प्रभाव पडता है। हर देश में जनता को स्वास्थय लाभ पहुँचाने हेतु विभिन्न नीतियों का निर्माण किया जाता है

स्वास्थ्य सेवा उद्योग (Health care industry)

आधुनिक स्वास्थ्य सेवा की डिलीवरी प्रशिक्षित पेशेवरों के एक विस्तृत समूह पर निर्भर करती है, जो एक अन्तः विषय टीम के रूप में काम करते हैं।[1][2]

स्वास्थ्य-सेवा उद्योग में कई क्षेत्र शामिल हैं जो अपनी सेवाएं और उत्पाद उपलब्ध कराने और लोगों के स्वास्थ्य में सुधार करने के लिए समर्पित हैं। उद्योग के बाजार वर्गीकरण जैसे वैश्विक उद्योग वर्गीकरण मानक और इंडस्ट्री क्लासिफिकेशन बेंचमार्क के अनुसार स्वास्थ्य-सेवा उद्योग में स्वास्थ्य सेवा उपकरण और सेवाएं और फार्मास्यूटिकल्स, जैव प्रौद्योगिकी और जीवन विज्ञान शामिल हैं। इन समूहों से सम्बन्धित विशेष क्षेत्र हैं: जैव प्रौद्योगिकी, नैदानिक पदार्थ, दवा का वितरण, दवा निर्माता, अस्पताल, चिकित्सा उपकरण, नैदानिक प्रयोगशालाएं, नर्सिंग होम, स्वास्थ्य सेवा योजना प्रदाता और घरेलू स्वास्थ्य सेवा.[3]

उद्योग के सरकारी वर्गीकरण, जो मुख्यतया संयुक्त राष्ट्र की प्रणाली, द इंटरनेशनल स्टेंडर्ड इन्डसट्रिअल क्लासिफिकेशन पर आधारित है, के अनुसार, स्वास्थ्य सेवा में आमतौर पर अस्पताल की गतिविधियां, चिकित्सा और दन्त चिकित्सा की गतिविधियां और अन्य मानव स्वास्थ्य गतिविधियां शामिल हैं। आखिरी वर्ग में मानव स्वास्थ्य के लिए वे सभी गतिविधियां शामिल हैं जिन्हें अस्पतालों या चिकित्सकों या दन्त चिकित्सकों के द्वारा नहीं किया जाता है। इसमें ऑप्टोमिट्री (वह चिकित्सा जिसमें दृष्टि की क्षमता को माप कर उसे लेंस इत्यादि के द्वारा ठीक किया जाता है), जल चिकित्सा (हाइड्रोथेरेपी), चिकित्सकीय मालिश, संगीत चिकित्सा, व्यवसायिक चिकित्सा, भाषा चिकित्सा, चीरोपोडी (पैरों के रोगों की चिकित्सा), होमयोपैथी, चीरोप्रेक्टिसेस, एक्यूपंक्चर आदि के क्षेत्र में नर्सों, धात्रियों, फिजियोथेरेपिस्ट, वैज्ञानिक या नैदानिक प्रयोगशालाओं, पैथोलोजी के क्लीनिकों, एम्बुलेंस, नर्सिंग होम, या अन्य पैरा मेडिकल चिकित्सकों की गतिविधियां या उनके पर्यवेक्षण के अंतर्गत आने वाली गतिविधियां शामिल हैं।[4]

अनुसंधान

स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में सबसे ज्यादा प्रभावी अकादमिक पत्रिकाओं में हेल्थ अफेयर्स (पत्रिका)मिलबैंक क्वार्टरली मेडिकल सोल्युसंस (पत्रिका)डियर डॉक्टर (पत्रिका) हर्ट मैटर्स जैसी पत्रिकाएँ शामिल हैं। निरोगधाम (पत्रिका)अक्षय जीवनयोग संदेशब्रिटिश मेडिकल जर्नल और जर्नल ऑफ़ द अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन कुछ अन्य पत्रिकाएं हैं।

जैव चिकित्सा अनुसंधान (या प्रयोगात्मक चिकित्सा), जिसे सामान्यतया चिकित्सा अनुसंधान के रूप में जाना जाता है, वह मूल अनुसंधान, अनुप्रयुक्त अनुसंधान या अनुवादकीय शोध है, जिसका संचालान चिकित्सा क्षेत्र में ज्ञान बढाने के लिए किया जाता है। चिकित्सा अनुसंधान को दो सामान्य श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है: सुरक्षा और प्रभावोत्पादकता के लिए नए उपचारों का मूल्यांकन जिन्हें चिकित्सकीय परिक्षण कहा जाता है और वे सभी अन्य अनुसंधान जो नए उपचारों के विकास में योगदान देते हैं। बाद वाले को नैदानिक चिकित्सकीय अनुसंधान (प्री क्लिनिकल रिसर्च) कहा जाता है, यदि इसका लक्ष्य विशेष रूप से नयी चिकित्सकीय रणनीति के विकास के लिए ज्ञान का विस्तार करना है। जैव चिकित्सा अनुसंधान के लिए एक नए प्रतिमान को अनुवादिक अनुसंधान कहा जाता है, जो बेडसाइड से बेंच तक और इसके विपरीत अनुवाद के ज्ञान को बढाने के लिए मूल और नैदानिक अनुसंधान के क्षेत्रों के बीच प्रतिक्रया लूपों पर ध्यान केन्द्रित करता है।

दवाओं के निर्माण और अनुसंधान पर (R&D) व्यययूरोप संयुक्त राज्य अमेरिका की तुलना में कुछ कम व्यय करता है (2006 में €27.05 अरब की तुलना में €22.50 अरब) और यूरोपियन आर एंड डी (R&D) व्यय में कम वृद्धि देखी गयी है।[5][6] दवाएँ और अन्य चिकित्सा उपकरण यूरोप और संयुक्त राज्य के अग्रणी उच्च प्रौद्योगिकी निर्यात उत्पाद हैं।[6][7] हालांकि, संयुक्त राज्य बायोफार्मास्यूटिकल क्षेत्र पर हावी है, यह विश्व के जैव प्रौद्योगिकी राजस्व का तीन चौथाई हिस्सा बनाता है और जैव प्रौद्योगिकी में विश्व के आर एंड डी व्यय का 80% भाग बनाता है।[5][6]

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO)

विश्व स्वास्थ्य संगठन एक विशिष्टीकृत संयुक्त राज्य की संस्था है, जो पूरी दुनिया में सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए एक समन्वयक और शोधकर्ता के रूप में कार्य करती है। इसकी स्थापना 7 अप्रैल 1948 को हुई और इसके मुख्यालय जिनेवा और स्विट्जरलैंड में हैं, इस एजेंसी ने अपनी पूर्ववर्ती द हेल्थ ओर्गेनाइज़ेशन के जनादेश और संसाधनों को विरासत में प्राप्त किया है, जो लीग ऑफ़ नेशन्स की एक एजेंसी थी। WHO के संविधान में कहा गया है कि इसका उद्देश्य “सभी लोगों को स्वास्थ्य के उच्चतम संभव स्तर तक पहुंचाना है।” इसका मुख्य कार्य है बीमारियों, विशेष रूप से संक्रामक बीमारियों का मुकाबला करना और दुनिया के लोगों के सामान्य स्वास्थ्य को बढ़ावा देना. इसके कार्य के उदाहरणों में वे वर्ष शामिल हैं जब चेचक का मुकाबला किया गया. 1979 में WHO ने घोषणा की कि इस रोग का उन्मूलन कर दिया गया है, यह इतिहास में पहला ऐसा रोग था जिसे मनुष्य में से पूरी तरह से समाप्त कर दिया गया. WHO मलेरिया और शाइज़टोसोमिएसिस (रक्त पर्णकृमि शाइज़टोसोमा द्वारा उत्पन्न एक परजीवी रोग) से बचने के लिए वेक्सीन के विकास में सफलता के बहुत करीब पहुंच गया है। और अगले कुछ सालों में पोलियो का उन्मूलन भी पूरी तरह से हो जाएगा. यह संगठन पहले से ही 3 अक्टूबर 2006 को जिम्बाब्वे के लिए एच आई वी / एड्स के लिए दुनिया की पहली अधिकारिक टूलकिट का समर्थन कर चुका है, जो इसे एक अंतरराष्ट्रीय मानक बनाता है।[8]

WHO का वित्तपोषण इसके सदस्य राष्ट्रों और दानदाताओं के द्वारा किया जाता है। हाल ही के वर्षों में, WHO के कार्य में और अधिक भागीदारियां जुड़ गयीं हैं, वर्तमान में ऐसी 80 भागीदारियां हैं, जिनमें गैर सरकारी संगठनऔषधीय उद्योग और कई फाउंडेशन जैसे बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन और रॉकफेलर फाउंडेशन शामिल हैं। इसके 193 सदस्य राष्ट्रों से WHO के लिए स्वैच्छिक योगदान बहुत अधिक बढ़ गया है, यह योगदान राष्ट्रीय और स्थानीय सरकारों, फाउंडेशन और एनजीओ, संयुक्त राष्ट्र के अन्य संगठनों और निजी क्षेत्रों (दवा कम्पनियों सहित) की ओर से है।[9